नक्शे-कदम

मैं तो यूँही ज़िंदगी जिए जा रही थी। यूँही वक्त अपने कदमों के निशाँ छोड़े जा रहा था और मैं उन निशानों के पीछे पीछे चली जा रही थी। जब मुड़के देखा और उन निशानों को लकीरों से जोड़ा, जैसे बच्चे अपनी कॉपियों में बिंदियों को जोड़ जोड़ कर चित्र बनाते हैं, तो क्या देखती हूँ की अजीब सा एक नक्शा! वह नक्शा जिसे देख के लगता हो कि इसे पहले कहीं देखा है। वह नक्शा जिसे समझना चाहूँ तो भी नहीं समझ सकती हूँ मैं। वह नक्शा जिसे देख के लगता हो कि किसी ने बड़ी बारीकी से, बहुत सोच समझ के इसे बनाया है. सच? क्या वक्त इसी तरह राह-नुमा बने मेरी ज़िंदगी अपने नक्शे-कदम पे चलाता रहेगा? क्या उसने पहले से ही यह नक्शा बनाये रखा है और मुझे हर मोड़ नया लगता है, यूँही? जबकि वाकई में कोई मोड़ नया नहीं, कोई रास्ता नया नहीं, कोई राहगीर नया नहीं। बदला है तो बस देखने का नज़रीया की मैं पीछे मुड़ कर उस नक्शे को देखूँ, या आगे की ओर आने वाले मोड़ को।

————

And in Latin script…..
Naqsh-e-kadam

Main to yunhi zindagi jiye jaa rahi thi. Yunhi waqt apne kadmon ke nishaan chode ja raha tha aur main un nishaano ke peeche peeche chali jaa rahi thi. Jab mudke dekha aur un nishaano ko lakeeron se joda, jaise bacche apni copiyon mein bindiyon ko jod jod kar chitr banate hain, to kya dekhti hoon ki ajeeb sa ek naqshaa! Woh naqshaa jise dekh ke lagta ho ki ise pehle kahin dekha hai. Woh naqshaa jise samajhna chahoon to bhi nahi samajh sakti hoon main. Woh naqshaa jise dekh ke lagta ho ki kisi ne badi baariki se, bahut soch samajh ke ise banaya hai. Such? Kya waqt isi tarah raah-numa bane meri zindagi apne naqshe-kadam pe chalata rahega. Kya usne pehle se hi yeh naqshaa banaye rakha hai aur mujhe har mod nayaa lagta hai, yunhi? Jabki waaqaii mein koi mod naya nahi, koi rasta nayaa nahi, koi rahgeer naya nahi. Badla hai to bus dekhne ka nazariya ki main peeche mud kar us naqshe ko dekhoon, ya aage ki oar aane waale mod ko.