Muskurane ka bojh

महफिलों में बहुत नाम कमाया है आपने,
दिल-ए-दस्ता.न को महेज़ दोहराया है आपने.

लफ्जों के काबिल हैं हमारे होंठ फ़क़त,
मुस्कुराने का बोझ उठाया है आपने.

मंदिरों में पूजे जाते हैं फ़रिश्ते कई,
इस दुनिया को जन्नत बनाया है आपने.

बाज़ारों में बिकती है दो पल की राहत,
इन आँखों में दरिया बसाया है आपने.

बन तितली उड़ चला आज कैदी कल का,
वक्त की सुइयों को हराया है आपने.

पेशानी पे लकीरें जो खिची हैं आज
क्या कहीं पोशीदा दिल लगाया है आपने?

ख़यालों के अंधरों में थी खोयी जो
उस “जिया” को खुद में पाया है आपने.

——————
पेशानी: forehead
सुइयों: needles
——————

Mehfilon mein bahut naam kamaya hai aapne,
Dil-e-dastaa.n ko mehez dohraaya hai aapne.

Lafzon ke kaabil hain hamare hond faqat,
Muskurane ka bojh udhaya hai aapne.

Mandiron mein puje jaate hain farishte kai,
Is duniya ko jannat banaya hai aapne.

Bazaron mein bikti hai do pal ki raahat,
In aankhon mein dariya basaya hai aapne.

Ban titli ud chala aaj qaidi kal ka,
Waqt ki suiyon ko haraaya hai aapne.

Peshaani pe lakeerein jo khichi hain aaj
kya kahin posheeda dil lagaya hai aapne?

Khayalon ke andhron mein thi khoyi jo
Us “ziya” ko khud mein paaya hai aapne.

——————
peshaani: forehead
suiyon: needles